Monday, October 17, 2011

शिवपुर की वो शाम

पिछले महीने जब बनारस गये थे तो दो दिन गुडिया के घर शिवपुर में बिताये थे. ढेर सारी बातें और ढेर सारा खाना ,सहज आत्मियता में डूबे दिन थे.उस घर की छत खूब खुली खुली थी और आस पास का परिवेश ग्रामीण न होते हुये भी गांव की याद दिलाने वाला था.हम छत पर बैठे थे और उस खुली छत मे घिरती सांझ भी मन में कैसा तो उजाला भर रही थी.घर लौटती चिड़ियों की आवाज लोक गीत सी भीतर तक उतर रही थी.धीरे धीरे गहराते अंधेरे के साथ ही एक एक कर तारे मुडेंर पर आ,नीचे झांकने लगे थे. दूर तक नजर आते निष्कलुष आसमान के वे दूर देश के वासी तारे भी कितने अपने लग रहे थे और तभी दिखे मुट्ठी भर भर जुगनू.कितने अरसे बाद मुलाकात हुई थी जुगनुओं से.बगल के खाली प्लाट में उगे जंगली पौधों और झाड़ियों के बीच ऐसे टिमटिमा रहे थे जैसे रौशनी के फूल उग आये हो .सड़क पार के उस ऊंचे नीम के पेड़ पर तो जैसे पूरी बस्ती ही बस गयी थी जुगनुओं की.और फ़िर इक्का दुक्का जुगनू छत का भी चक्कर लगा गये.ऐसा लगा बहुत दिनों बाद किसी पुराने दोस्त से मुलाकात हो गयी हो.
इतने लम्बे समय बाद दिखे जुगनू हमे याद दिला गये बीर बहूटी की.वो जो हमारी बचपन की बरसातों का अटूट ,नर्मो नाजुक हिस्सा हुआ करती थी.नन्हीं सी लाल लाल ,मखमली सी बीर बहूटी बरसात होते ही गीली मिट्टी में न जाने कहां से उग आती थी और हम सब उसके बिल्कुल पास बैठे उसका धीरे धीरे चलना देखते रहते थे.वह हमारे लिये बरसात का एक नायाब तोहफ़ा हुआ करती थी.उसे ज्यादा से ज्यादा समय देखने के लालच में हम बिना ढक्कन की डिब्बियों में गीली मिट्टी बिछा उसे सावधानी से उसमे रख लेते थे .पता नहीं कहां चली गयी है बीर बहूटी अब.बचपन के बाद दिखलायी ही नहीं पड़ी.माटी शायद अब उतनी सोंधी नहीं रह गयी.देखो ,बीर बहूटी तुम तो नहीं आती अब पर अपने भीतर की डिबिया में माटी ,वही वाली माटी बिछाये हम अब भी तुम्हारा इन्तज़ार करते हैं.
ये जुगनू क्या दिखे कि अपने साथ न जाने कौन कौन से भूले बिसरे कोनो को उजियारा दिखा गये.अचानक याद आ गयी सर्दियों मे किताबों के पन्नों के बीच की वह ऊन की गुड़िया.तब तो बस अम्मा,चाची लोगों के हाथ के बुने स्वेटर हुआ करते थे.और हर सर्दी उधेड़ कर एक बार फ़िर कुछ नये ढंग से बनाये गये स्वेटर भी कितने गर्म हुआ करते थे.और सबके स्वेटर से उठते फ़ुन्नों को नोच नोच कर बनती थी वह गुड़िया.और हिन्दी लिखने की वह पीतल वाली निब ,जिसे हमारी तिवारी मास्टर साहब दीवार पर घिस कर तिरछा करते थे कि लिखते समय छपे अक्षरों जैसा फ़िनिश आये.और अंग्रेजी लिखने वाले जी निब.स्कूल के बगल वाले खाली प्लाट मे उगा लाल ,बैंगनी मकोई का जंगल और उसे खाने के लिये दीवार फ़ांदने की होड़.पता नहीं यह बचपन भी पुरानी होती दीवारों के बीच किस किस दरार से उग आता है.


pic by sunder iyer

8 comments:

Anuja said...

Us mod se shuru karein phir ye zindgi....!

kal se aaj ka sira kabhi tootata nahin....kal laut laut kar kisi na kisi raste per mil jaata hai.

Ek panna sham maine bhi pi li

Nupur said...

Namita, Bir Bahuti, jugnoo, sham ko chidiya ka chahachahana......kahan gaye vo din pata nahi. Aapke shabd yaad dila gaye hume hamare bachapan ki garmi ki chuttiyan jo Hyderabad main bitati thi. Aaspass ke bade bade pathar aur behad sunsaan vo ilaka jahan do char ghar hi the. Hum door tak nikal jatain thain saath main khaana lekar.Ek najuk si dhara beech main paar karni padti thi aur phahad hi pahad, gigeet bhaut dekehe wahan par. Sab yaad aa gaya.
Sardiyan aane ko hain sweater ab bhi nikalege par ab haath se kam hi bune jaate hain.
behad narm aur khoobsurat ahsaas hain aapke sabdon main

namita said...

Anuja

theek kaha tumane kal kisi na kisi roop me laut kar kahee na kahee samane aa khada hota hai jindagi ke raste me par jo pal aaj hame uljhan me dal jate hai kal ho sakta hai ham unake bagal se aprabhavit se nikal jay ya fir unase shake hand kare aur haka sir jhatak ,muskara aage badh jay.

haan, hoth bheej hame aaj ko gujar jane ke liye khud ko taiyar karana padata hai.

jindagi us mod se fir se us mod se to shuru nahi ki ja sakti par haan,jo kuchh sukun deta hai use yoon yad karane se kai bar aaj ko jeena aasan ho jata hai.

chalo jeeya jay
namita

namita said...

jaanatee ho nupur,tumhare comments isiliye hame behad pyaare lagate hai ki ve mere post likhane ka maksad poora kar dete hai.ek aur yatra par le chalati ho tum ,jo bilkul apani si lagati hai aur yah jo sajhapan hai na,judane ka sukh de jata ho.Hyderabad ka vah hissa jo aaj ki tareekh me bahut badal gaya hoga mere bheetar theek usi roop me ug aaya jaise tumane use jiya tha.kitna khubsurat hua karata tha tab sab kuchh.
sach hai sweaters me ab sparsho ki garmaahat nahi anubhav ho pati.pahale rang birange oon ke golo ke sath bhavnaye bhi shamil rahati thi .
hath pakad batiyane sa sukh de gaya tumhara comment hame.
namita

Novel ideas said...

woh bachpan ki yaadein! na bhooli, na bisri, bas bhar aathi hai aankhein

namita said...

Novel Ideas........yahi vo yade hai jinhe jeete samay man me na koi gaanth hoti hai ,na uljhan......itna saral samay jeevan bhar fir nahi aataa isiliye shayad bhar aati hain aankhe.

thanks
namita

Raj Anand said...

Nmaita,

Bhai tum log bachpan ki yaado me itna bhi peeche mat le jao ki paon vahi jad ho jaayein aur vapas lautne ka jee na kare.... Bahut bhavuk ho uthi main

Raj

namita said...

lekin raj di,vo hi to sabse pyare nishchhal din the na.bar bar man karata hai un galiyon me laut jane ko aur bhavuk to aap hai hi.

namita